Thursday, March 27, 2014


1 comment:

  1. ऐसे ओजश्वी शब्द और वाणी के एक मात्र महान कवि जिन्होने कई दसकों से श्रोताओं को मंत्र मुग्ध किया हैं।

    यही नहीं जिनके धमनिओ का गरल शुशुप्त (ठंडा) हो गया हो जो मृत्यु शैया पर लेटे यमराज का इंतजार कर रहे हों।
    आप के कविताओं को सुनते ही उनके रगों में जवानी का जोश उमड़ पड़ता हैं।

    आप जैसे कवि को बारम बार नमस्कार !

    ReplyDelete